” हिन्दू आंतकवाद ” के मुद्दे पर भाजपा और कांग्रेस में लगी आग

” हिन्दू आंतकवाद ” के मुद्दे पर भाजपा और कांग्रेस में लगी आग

राष्ट्रीय 0 Comment 3
नई दिल्ली , २ अगस्त।  ” हिन्दू आंतकवाद ” के मुद्दे पर भाजपा और कांग्रेस में लगी आग इस कदर भड़क रही है कि दोनों पार्टी और मोदी सरकार हिन्दू आंतकवाद के मुद्दे पर एक दूसरे के खिलाफ आग उगल रहे है। गौरतलब है कि शुकरवार को संसद में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने  ” हिन्दू आंतकवाद ” शब्द को कांग्रेस के पाले में डालते हुए आरोप लगाया  कि यूपीए सरकार के समय हिंदू आंतकवाद शब्द को ईजाद किया गया था।  इसके चलते उस समय आंतकवाद के खिलाफ लड़ाई कमजोर पड़ रही थी। 

शनिवार को कांग्रेस ने इस आरोप को ख़ारिज करते हुए कहा की भाजपा देश में धुर्वीकरण करना चाहती है। कांग्रेस, नेता और यूपीए सरकार में गृह मंत्री रहे सुशील कुमार शिंदे ने संसद में ‘हिन्दू आतंकवाद’ शब्द के इस्तेमाल से इनकार किया। जबकि  भाजपा ने  कट्टरपंथी मुद्दे पर राहुल गांधी के दिए बयान को एक बड़ा मुद्दा बनाया है। 

पूर्व केंद्रीय मंत्रियों पी. चिदंबरम और गुलाम नबी आजाद ने ‘हिन्दू आतंकवाद’ शब्द का इस्तेमाल कर कांग्रेस पर आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई कमजोर करने के आरोप के लिए राजनाथ को आड़े हाथ लिया। चिदंबरम ने कहा कि यूपीए शासनकाल में गृह मंत्री के रूप में शिंदे ने एकदम अलग परिप्रेक्ष्य में हिन्दू आतंकवाद पर सवाल उठाया था, लेकिन राजनाथ का बयान पूरी तरह बदला हुआ तर्क है। चिदंबरम ने कहा कि शिंदे ने संसद के बाहर बयान दिया था और जिस ढंग से राजनाथ सिंह बता रहे हैं, उस ढंग से ‘हिन्दू आतंक’ शब्द का इस्तेमाल नहीं किया था। उन्होंने कहा कि शिंदे जिस बात का जिक्र कर रहे थे, वह दक्षिणपंथी उग्रवादी समूहों से जुड़ा था और उनमें से कुछ पर कई बम विस्फोट मामलों, मालेगांव, मक्का मस्जिद तथा एक या दो अन्य मामलों में आरोप हैं। 

चिदंबरम ने कहा कि इनमें से कई आरोपी समूहों के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से नजदीकी रिश्ते रहे हैं और ये सब चार्जशीट का हिस्सा हैं। पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि राजनाथ सिंह बयान को पूरी तरह तोड़-मरोड़ कर पेश कर रहे हैं। आजाद ने कहा कि किसी को भी आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में कांग्रेस को लेक्चर देने की जरूरत नहीं है। राज्यसभा में नेता विपक्ष ने कहा कि गृह मंत्री हिन्दू आतंकवाद की बात कर ध्रुवीकरण की कोशिश कर रहे हैं और सरकार की विफलताओं से लोगों का ध्यान बंटाने का प्रयास कर रहे हैं। 

शिंदे ने कहा कि एनडीए सरकार गुरदासपुर आतंकी हमले के परिप्रेक्ष्य में आतंकवाद से निपटने में अपनी खुद की ‘निष्क्रियता’ से लोगों का ध्यान बंटाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने पुणे में संवाददाताओं से कहा, ‘मैंने संसद में कभी भी हिन्दू आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल नहीं किया। मैंने कांग्रेस के जयपुर अधिवेशन में इसका इस्तेमाल किया था लेकिन बाद में इसे वापस ले लिया था।’ 

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने राहुल गांधी की कथित टिप्पणियों का मुद्दा उठाया, जिसमें उन्होंने कट्टरपंथी हिन्दू समूहों को पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह लश्कर-ए-तयैबा की तुलना में बड़ा खतरा बताया था। बीजेपी ने सोनिया गांधी से भी पूछा कि वह बताएं कि हिंदू आतंकवादी समूहों को लश्कर-ए-तैयबा से ज्यादा खतरा होने वाली टिप्पणी का समर्थन करती हैं या नहीं। इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने याकूब मेमन को फांसी देने के मामले में शत्रुघ्न सिन्हा और वरुण गांधी की टिप्पणी से भी पार्टी को अलग किया। 

प्रसाद ने कहा कि बीजेपी का मानना है कि आतंकवाद का कोई धर्म या रंग नहीं होता। बीजेपी ने कभी भी मुस्लिम आतंकवाद जैसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया बल्कि जेहादी आतंकवाद कहा है। उन्होंने कहा कि राजनाथ सिंह ने लोकसभा में जो कहा वह सही है। कांग्रेस बार-बार यह कहती है कि इंदिरा गांधी और राजीव गांधी ने बलिदान दिया लेकिन कांग्रेस पार्टी ने इन बलिदानों से सही सबक नहीं लिया। उन्होंने ने पूर्व गृहमंत्री पी. चिदंबरम और सुशील कुमार शिंदे की ओर से इस्तेमाल किए गए भगवा आतंकवाद और हिंदू आतंकवाद का भी हवाला दिया।

   

Share.

Author

Leave a comment

ENTERTAINMENT

तब्बू की एंट्री से फिल्म ” दृश्यम ” ट्रैक पर आती है

देखी हुई बात जरूरी नहीं है कि सच हो, इस बात के इर्दगिर्द घूमती है फिल्म निर्देशक निशिकांत कामत की ...
Read More

ADVERTISE WITH US



COPYRIGHT © DAY NIGHT INDIA. All Rights Reserved.

24 X 7 Helpline Number
+91 - 8802078115

POWERED BY :Aaryawebsolution.in



Back to Top